Popular Posts

Sunday, April 8, 2012

चलो इसे घर ले चलें

सारा सारा दिन आवारा घूमता है - 
चलो इसे घर ले चलें - 
ड्राइंग रूम में सजा लेंगें .

बहूत आग है - इसमें 
घर का चूल्हा बिना गैस के 
जला लेंगे - रोटियां पका लेंगें 

और नहीं तो - घर की बत्तियां 
जला लेंगें - बिजली का बिल 
बहूत आता है - बचा लेंगे .
चलो इसे घर ले चलें . 

2 comments:

  1. बढ़िया मनोरंजक प्रस्तुति ।

    बधाई भाई जी ।।



    जंगल की लकड़ी ख़तम, बढ़ते ईंधन दाम ।

    बिजली बिल आये बहुत, ले चल सूरज थाम ।।

    ReplyDelete
  2. उत्कृष्ट कृति |
    बुधवारीय चर्चा-
    मस्त प्रस्तुति ||

    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete