Popular Posts

Wednesday, February 26, 2014

एक चिंगारी को - छोटा ना समझ

एक चिंगारी को - 
छोटा ना समझ 
इसमे होता है -
रमाणु का विधान .

वो जिसने सीख कर 
पहचान लिया - 
वही करेगा अब 
इस क्रांति का संधान .

एक चिंगारी लगी - 
भस्मभूति - हुआ 
ये पापाचारी विधान . 

दावानल - ये जंगल
की आग - झुलस के 
मर गये - कई शैतान .

सड़क पर बिखरी पड़ी 
जवाँ शक्ति उठा 
समेट ले - इन्हें 
दे दे पहचान .

ये बवंडर - 
ये आंधियां तूफ़ान -
पवन चक्की से 
उर्जा शक्ति - 
बन जाए फिर 
पूरा हिंदुस्तान .

Thursday, February 20, 2014

तू तमाशबीन नहीं शायर हैं .

लिख वो प्यार की-
बात जो तूने कही .
लिख उसके बाद की
पीड़ा जो तूने सही
लिख की तू मुहजोर
नहीं कायर है .
लिख की तू तमाशबीन
नहीं शायर हैं .

आज वो हर बात -
लिख जो तूने कही है
जमाना जानता है
वो कितनी सटीक
कितनी सही है .

आज ही लिख -
अपनी अंतरात्मा का
वो सच - जो
कल कोई नहीं सुनेगा .

कोई नहीं पढ़ेगा .
कम से कम - कोई
अलग से अपने
मायने नहीं गढ़ेगा .