Popular Posts

Sunday, November 20, 2011

शिखर पर बैठे हुए - ये किसके चहरे हैं .


शिखर पर बैठे हुए -
ये किसके चहरे हैं .
मुंह पर नकाब डाले - हैं
राम जाने क्यों इतने पहरे हैं .

मंजिल तो नहीं है - फिर 
इतने लोग यहाँ क्यों ठहरे हैं .
ये इतना चिल्लाते क्यों हैं -
क्या हम इतने बहरे हैं .

इस सभा में सब मौन क्यों हैं -
क्या कोई मर गया है - या
दिल के फासले बढ़ा गया /कम कर गया है .
गूंगे -बहरे अंधे हैं फिर भी  
चिंतन में क्या इतने गहरे हैं .

भीड़ तमाशाई तो है फिर भी
हाथों में पोस्टर - और 
जुबान पर ककहरे हैं - 
मरे हुए लोगों की - हर 
बात पर जय बोलते हैं 
बड़े अजीब - ये कफ़न ओढ़े 
मरे हुए से चेहरे हैं .

1 comment:

  1. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete