Popular Posts

Saturday, June 18, 2011

बूंदों का मजा ले ना

आग की बात मत कर -
बरसात का मौसम है .
पुरवैया का जोर है -
बूंदों का मजा ले ना .

रोज रोज - रोने का
क्या फायदा है सोच .
कभी तो थोड़ा सा
मुस्कुरा दे ना .

फैले सब रंग - बदरंग
जिन्दगी की तस्वीर .
क्यों पोंछता है बार -बार
एक बार - सीधे आंसुओं से
धोने दे ना .

मैं कहता हूँ - चुप्पी 
बहूत भली सी है -अब
खुद भी - आराम से रह
सरकार को भी - चैन से
सोने दे ना .

रात का राग - अलसुबह
क्यों छेड़ बैठा मैं -यार
सुबह हुई है अभी -
सबको सुप्रभात  तो
कहने दे ना .

10 comments:

  1. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (20-6-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. कभी तो थोडा सा मुस्कुरा देना ...
    छोडो ये रोज का रोना ...

    सुप्रभात !

    ReplyDelete
  3. आग की बात मत कर -
    बरसात का मौसम है .
    पुरवैया का जोर है -
    बूंदों का मजा ले ना .

    क्या बात कही है सुंदर भाव लिए.

    ReplyDelete
  4. वाह , बहुत अच्छी अभिव्यक्ति ... सुप्रभात





    कृपया टिप्पणी बॉक्स से वर्ड वेरिफिकेशन हटा लें ...टिप्पणीकर्ता को सरलता होगी ...

    वर्ड वेरिफिकेशन हटाने के लिए
    डैशबोर्ड > सेटिंग्स > कमेंट्स > वर्ड वेरिफिकेशन को नो करें ..सेव करें ..बस हो गया .

    ReplyDelete
  5. अच्छी अभिव्यक्ति ...... सुप्रभात !

    ReplyDelete
  6. फैले सब रंग - बदरंग
    जिन्दगी की तस्वीर .
    क्यों पोंछता है बार -बार
    एक बार - सीधे आंसुओं से
    धोने दे ना .

    बेहतरीन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  7. रात का राग - अलसुबह
    क्यों छेड़ बैठा मैं -यार
    सुबह हुई है अभी -
    सबको सुप्रभात तो
    कहने दे ना .bahut sunder abhibyakti.sunder shabdon ka chayan.badhaai aapko.

    please visit my blog.thanks

    ReplyDelete
  8. आग की बात मत कर -
    बरसात का मौसम है .
    पुरवैया का जोर है -
    बूंदों का मजा ले ना .

    बहुत सच कहा है..सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  9. हमेशा क्यों रोते रहना...मुस्कुराना चाहिए....बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छा अंदाज़, बहुत अच्छी बात ...

    ReplyDelete